गमों का दौर भी जरूरी है – ग़ज़ल

​ऐ जिंदगी, तेरा सबक, क्या लाजवाब है, ज़मीर की खातिर, गमों का दौर भी जरूरी है। इस भाग-दौड़ से क्या हाँसिल हुआ अब तक, इसका हिसाब करने को, इक ठौर भी जरूरी है।

Advertisements

मातृभाषा हिंदी के सम्मान में दो शब्द – Literacy Not Limited To English

​हमारे देश की सबसे बड़ी विडंबना कॉर्पोरेट कार्यालयों में देखने को मिलती है जहाँ ज्ञान का मापक यंत्र अंग्रेजी भाषा है। अगर साक्षात्कार में साक्षात माता सरस्वती भी विराजमान हों तो धाराप्रवाह अंग्रेजी बोले बिना चयनित नहीं हो सकतीं...

वो सुबह कभी तो आयेगी… A Salute To Sahir Ludhianvi Sahab

माना मैं चलने वाला हूँ, संग तेरे दौड़ नहीं सकता, अपने जज़्बाती गीतों को सिक्कों से तौल नहीं सकता, मैं न भी रहा, ये गीत फिजाओं में घुलकर रह जाएंगे, ये तान तुम्हारे कानों से जिस दिन भी टकरा जाएंगे, मुझको ठुकराया था तूने, 'उस' गलती पर पछताएगी, वो सुबह कभी तो आयेगी वो सुबह कभी तो आयेगी...

इल्ज़ाम तुम्हारे सर होगा – I’m Innocent

मुस्कान तुम्हारी कातिल है, नागिन जुल्फें लहरातीं हैं, बस एक झलक ही काफी है, सम्मोहित सी कर जाती है। यदि मैं आपा खो बैठूं फिर अंजाम तुम्हारे सर होगा, मुझको दीवाना करने का इल्ज़ाम तुम्हारे सर होगा।

​तेरा चेहरा तस्वीर बना, प्रतिबिम्बित मेरी आँखों में – You’re My Poetry

अतएव जिरह पर लोगों के मैं अक्सर ऐसा कहता हूँ, 'मां सरस्वती का साधक हूँ, उनकी ही सेवा करता हूँ, उस महामयी की महिमा के प्रतिफल हैं सारे गीत मेरे, वो मधुर चेतना भरतीं हैं, इन गीतों में संगीत मेरे।' पर हुए मंजुरित, फल आए, तुमसे ही मेरे साखों में, तेरा चेहरा तस्वीर बना प्रतिबिम्बित मेरी आँखों में।

माँ दुर्गा का गुणगान करो – नवरात्रि विशेष गीत

नवरात्रि तुम्हें मंगलमय हो, चिंता छोड़ो, उपवास करो, वो सब बाधाएं हर लेंगी, माँ दुर्गा पर विश्वास करो। जो जगजननी होंगी प्रसन्न, सब कार्य सहज हो जायेंगे, पर्वत देंगे पथ सरल सुगम, फिर मंजिल भी पा जाएंगे।