झट से कह दो प्यार नहीं है – गीत

एक बात तुमको बतला दूँ कह दो तो मैं गाँठ लगा दूँ तेरे कारण दुनियाँ छोड़ूँ मुझको यह अधिकार नहीं है। झट से कह दो प्यार नहीं है।।

इस तरह तुमने निहारा – गीत

रश्मि-रंजित धवल तन पर रेशमी परिधान तेरा ये मधुर मुस्कान तेरी फिर सुरीला गान तेरा लग रहा है दैव ने है स्वर्ग से तुमको उतारा। आज मन चंचल हुआ कुछ इस तरह तुमने निहारा।।

रेत पर पदचिन्ह तेरे – गीत

जिंदगी के रास्तों पर सैकडों दुश्वारियां हैं मुश्किलों से जूझने की क्या तेरी तैयारियाँ हैं पथ जरा समतल मिला तुम भूल बैठे कंटकों को लक्ष्य को पाने से पहले लाख जिम्मेदारियां हैं धैर्य खोकर चाहते हो भाग्य का चमके सितारा। रेत पर पदचिह्न तेरे और सागर का किनारा।।

मेरे बचपन का साथी था – गीत

जिसकी छाँव तले अपने पैरों पे चलना सीखा था, जिसकी गोदी में गिरने के बाद संभलना सीखा था, मेरे छुटपन के हर क्षण का, हर घटना का साखी था, वह पीपल का पेड़ नहीं, मेरे बचपन का साथी था।

तुम अंजलि में भर लेना – देशभक्ति गीत

मातृभूमि का कर्ज चढ़ा था उसको आज उतार चला तेरा साथ न दे पाया हूँ अब ये कर्ज़ उधार रहा बाकी है जो भी हिसाब सब अगले जन्म में कर लेना मैं कतरा-कतरा टपकूंगा, तुम अंजलि में भर लेना।

शहरों को छोड़ गाँव मे आने लगे हैं लोग – गीतिका

शहरों को छोड़ गाँव मे आने लगे हैं लोग नुक्कड़ पे अपनी धाक जमाने लगें हैं लोग। सुनता हूँ आ गया है, चुनाव का मौसम अब दावतें मजे से उड़ाने लगें हैं लोग।

मूक खड़ा है छंद हमारा – गीत

गिरिराज हिमालय नहीं रहा गंगा की धार बहे कैसे? छल-दंभ-द्वेष से घिरा हृदय भावों की धार सहे कैसे? ना कोई प्रतिकार बचा है ना कोई प्रतिबंध हमारा शब्दकोष खाली खाली है मूक खड़ा है छंद हमारा।

घर ही में बीवियों से खुराफ़ात सीखिए – हास्य मुक्तक

घर ही में बीवियों से खुराफ़ात सीखिए, कैसे करेंगे बॉस को बर्दास्त, सीखिए, बढ़ता है लॉक डाउन जो तो बढ़ने दीजिए, कूकिंग व राजनीति एक साथ सीखिए