कोई रहनुमा चाहिए – मुक्तक संग्रह – Required a torch-bearer

तीन मुक्तक

1-
पीठ ठोकी मेरी, और क्या चाहिए,
मंजिलों का मुझे बस पता चाहिए,
खुद-ब-खुद रास्ते पर चला आऊँगा,
आप सा बस कोई रहनुमा चाहिए…

2-
आपने कह दिया, हमने सुन भी लिया,
मंजिलें है जिधर, रास्ता चुन लिया,
आपका साथ हो, तो क्या हांसिल न हो,
जी बहुत शुक्रिया, जी बहुत शुक्रिया…

3-
आज मैं हूँ यहाँ, कल चला जाऊंगा,
रहगुजर पर तुम्हारे नहीं आऊंगा,
आज की रात तो छेड़ने दो मुझे,
तान फिर मैं सुनाने नहीं आऊंगा।

Advertisements

3 thoughts on “कोई रहनुमा चाहिए – मुक्तक संग्रह – Required a torch-bearer

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s