​दिलों में झाँकता, जमीर टटोलता कोई – See the heart’s beauty, not only face

​दिलों में झाँकता, जमीर टटोलता कोई,
तब कहीं जाके ‘क्या खूब’, बोलता कोई।

जिसे भी देखिए चेहरे पे फ़िदा हो जाता,
हुस्न की भीतरी परतें भी खोलता कोई।

दिल-ए-नादाँ भी जा बैठा है आज मंडी में,
ये माल मुफ्त का है, पर न मोलता कोई।

ज़हर-ए-जिंदगी का घूँट भी मीठा लगता,
अगर इंसानियत थोड़ी सी घोलता कोई।

वज़न बहुत है अल्फ़ाज़-ए-सच्चाई में,
कभी जज्बात-ए-शायर भी तोलता कोई।

Advertisements

One thought on “​दिलों में झाँकता, जमीर टटोलता कोई – See the heart’s beauty, not only face

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s