वो सुबह कभी तो आयेगी… A Salute To Sahir Ludhianvi Sahab

वो सुबह कभी तो आयेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी

साहिर साहब का कालजयी गीत ‘वो सुबह कभी तो आएगी’ हमारे मानस पटल पर गुलाम भारत की एक दर्दनाक तस्वीर खींच देता है, और कवि की ‘आज़ाद भारत की कल्पना’ एक आशा का संचार करते हुए इस गीत को लोगों के हृदय तक पहुंचा देती है। साहिर साहब का ये अंदाज पत्थर-दिल इंसान को भी झकझोरने के लिए पर्याप्त है तो एक कवि इससे अछूता कैसे रह सकता है? इसीलिए मैंने अपने साधारण शब्दों को साहिर साहब के खास अंदाज में प्रस्तुत करने का मन बनाया, अगर मेरे तुच्छ शब्द उनकी प्रेरणा से आपसब के हृदय तक पहुंचें तो खुद को सौभाग्यशाली समझूँगा…

वो सुबह कभी तो आयेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी…

जब सपनों का रथ कीचड़ के
दलदल से बाहर निकलेगा,
आशाओं के घोड़े दौड़ेंगे,
विश्वास का परचम लहरेगा,
जब मेरे गीतों की लय पर
यह दुनियां झूम के गायेगी,
वो सुबह कभी तो आयेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी…

जब रात की काली स्याही से
गीतों को रंगना पड़ता है,
आशाएं मरने लगतीं हैं,
जज़्बात को जीना पड़ता है,
धरती की सारी रंगीनी
जब फीकी पड़ने लगती है,
झूठे-मूठे आस्वासन से
यह दुनियां मुझको ठगती है,
इक दिन ऐसा भी आएगा,
दुनियां मुझको अपनाएगी
वो सुबह कभी तो आयेगी
वो सुबह कभी तो आयेगी…

माना मैं चलने वाला हूँ,
संग तेरे दौड़ नहीं सकता,
अपने जज़्बाती गीतों को
सिक्कों से तौल नहीं सकता,
मैं न भी रहा, ये गीत फिजाओं
में घुलकर रह जाएंगे,
ये तान तुम्हारे कानों से
जिस दिन भी टकरा जाएंगे,
मुझको ठुकराया था तूने,
‘उस’ गलती पर पछताएगी,
वो सुबह कभी तो आयेगी
वो सुबह कभी तो आएगी…

By
Kaushal Shukla

Advertisements

One thought on “वो सुबह कभी तो आयेगी… A Salute To Sahir Ludhianvi Sahab

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s