यह शिशिर पवन मतवाली है

यह शिशिर पवन मतवाली है।

सरसो पीली, सब खेत हरे
जब हवा चले झूमे-लहरे,
इस मधुर धूप, में हिल-मिल कर
धरती की छँटा निराली है,

यह शिशिर पवन मतवाली है।

कपड़े हैं उसके जीर्ण-शीर्ण,
ठंडक से उसका मुख विदीर्ण,
जैसे तैसे दिन बीत गया,
अब संध्या ढलने वाली है,

यह शिशिर पवन मतवाली है।

भीषण ठंडक में ठिठुर-ठिठुर,
सोचे यह शरद बड़ा निष्ठुर,
उंगली के पोरों पर गिनता,
कब गर्मी आने वाली है,

यह शिशिर पवन मतवाली है।

2 thoughts on “यह शिशिर पवन मतवाली है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s