प्रेम-सुधा बरसे – श्रीकृष्ण भजन 2020

प्रेम-सुधा बरसे।
मधुर-मनोहर मोहन की हिय
दर्शन को तरसे।।

राधा पथ में खोई-खोई
मधुर-मिलन के स्वप्न सँजोई
निकली है घर से।

पीत वसन नव श्यामल तन पर
मोर-मुकुट की शोभा मन पर
बरसे निर्झर से।

अधरों पर मुस्कान सजाकर
मुरली की मधु तान सुनाकर
मुरलीधर हरषे।

धीर बँधाती हैं आशाएं
दया-दृष्टि की अभिलाषाएं
मुखरित अंतर से।

प्रियतम को निज कंठ लगाऊँ
आज हृदय की पीर बताऊँ
नटवर नागर से।

अब विलम्ब क्योंकर है स्वामी
विरह-व्यथा के अंतर्यामी
आ जाओ त्वर से।

इस भजन का म्यूजिकल वीडियो देखने लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें

प्रेम-सुधा बरसे – म्यूजिकल वीडियो