तुम सीमा के पार न जाना – गीत – Don’t Leave Your Family

जहाँ नहीं अधिकार न जाना।
तुम सीमा के पार न जाना।।

दीपक एक पतंगे लाखों
स्वप्न लिए परिणय की आँखों
कुछ भी हाथ नहीं आता है
मृग-तृष्णा संसार न जाना?
तुम सीमा के पार न जाना।।

सबके मन मे चंचलता है
जिसको जितना भी मिलता है
इच्छाएँ बढ़ती जाती हैं
जीवन का व्यवहार न जाना?
तुम सीमा के पार न जाना।।

सुख में साथ निभाती है यह
दुःख में ऑंख दिखाती है यह
संकट के घिरते ही दुनियाँ
करती तीखे वार न जाना?
तुम सीमा के पार न जाना।।

रिश्तों का कुछ मोल नहीं है
सबसे भारी तोल यही हैं
तज़कर अपने संगी-साथी
करने तुम व्यापार न जाना।
तुम सीमा के पार न जाना।।

खेवनहार छोड़कर पीछे
क्रोधित होकर आँखें मींचे
ये टूटी पतवार लिए तुम
आगे है मझधार न जाना।
तुम सीमा के पार न जाना।।

रिश्तों पर शानदार कविताएँ

Youtube link for poem

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s