कारवाँ गुजर गया, तुम हताश हो गए – Don’t Give up! You’re Capable

कल तलक थी रौशनी, वक्त खुशगंवार था, और सर चढ़ा हुआ, मौसमी खुमार था, जोर से हवा चली, फूल सब बिखर गए, लोग साथ चल रहे, जाने कब किधर गए, जब चराग़ बुझ गए, तुम निराश हो गए? कारवाँ गुजर गया, तुम हताश हो गए।

मैं चमन का फूल हूँ – The Massage Of The Flower To The World

मैं चमन का फूल हूँ, कुचला गया तो क्या हुआ, हर तरफ फैली महक, मसला गया तो क्या हुआ। 'जिंदगी है जंग', मेरे रंग चढ़कर बोलती है, मेरी हर इक साँस सारे चमन में रस घोलती है, रौशनी हो या अँधेरा, मैं सदा खिलता रहा, ग्रीष्म, वर्षा, शीत का अनुभव मुझे मिलता रहा।

मैं तुम्हे अपनी सुनाना चाहता हूँ – I Hope You

जिंदगी का हर सबक, हर उलझनें गीतों में ढाला, चाह थी दुनियां में हो, इंशानियत का बोलबाला, गीत अपने, साथ तेरे गुनगुनाना चाहता हूँ। मैं तुम्हे अपनी सुनाना चाहता हूँ।

तूफ़ान की जानिब – The Journey against Storm

बड़े लोगों की ऊँचाई जो दिखती है, नहीं होती, दिखावे में चले आए हैं जीते, सच छुपाने को। हमीं हैं अन्न के दाता मगर फिर भी हमीं भूखे, किसानों ने कहा मायूस हो, अपने फ़साने को।

हो सके तो याद कर लेना मुझे भी- Don’t Forget Me

Don't forget me

आज तक का साथ था तेरा हमारा, आज चमका भाग्य का तेरा सितारा, चाँद की ख्वाहिस सभी को रास आती, पर दिये की रोशनी पर हक़ हमारा, हो मुबारक चांदनी के पल तुझे भी, हो सके तो याद कर लेना मुझे भी।

‘तुम किधर हो – It’s Time To Share Love’

It's time to share love

चार दिन की चांदनी में, दो दिवस ऐसा निकालो, है तमन्ना तुम मुझे कुछ, स्नेह दे दो, स्नेह पा लो, खो न जाए ये उजाला, फिर अँधेरे में सफ़र हो, चार दिन की जिंदगी है, मैं यहाँ हूँ, तुम किधर हो?

‘आधार न जाने क्या होगा? How To Be Positive Towards Relations’

Being positive towards relations

है आशा में विश्वास बहुत, तेरे मिलने की आस बहुत, यदि नहीं जगह इस धरती पर, उड़ने को यह आकाश बहुत, दुनियाँ की बातें कौन करे, ये जलती है तो जलने दो, अपने अंदर भी प्रेम भावना, पलती है तो पलने दो, तुम मिले अगर मेरे दिल का, उद्गार न जाने क्या होगा? इस दुनिया की निष्ठुरता का, आधार न जाने क्या होगा?

‘इतना भी तुम नीचे न गिरो -The Right Way Of Living’

The Right Way of Living

तुम जान गए ये सत्य सखे, जीवन की राह अधूरी है, पर तुममे जो छमता विशिष्ट, दिखलाना बहुत जरुरी है, फिर आँख मुंदने से पहले, जो कुछ होना है हो जाये, इतना भी तुम निचे न गिरो, उठाना ही दूभर हो जाये।

‘आधारित मुझ पर रहो नहीं -Being Independent Is A Must’

Being Independent Is Must

मै ठहरा नादान पथिक आगे खाई पीछे दलदल, उड़ने की छमता विकसित करने को मै कबसे तत्पर, उस पार तुझे भेजा हमने अपने आशा की कश्ती पर, मौका है ,सूरज चाँद बनो, चमका दो फिर से आज मही, मुझपर आधारित रहो नहीं।