विचार के धनी मनुष्य – The World Loves Creation

न पूछ रात-रात भर यूँ जाग करके क्या मिला किसी को रौशनी मिली किसी को हौसला मिला जो सींच भाव की जमीन स्वप्न बीज बो गया ऊगा के प्रेरणा का पेड़ अंतरिक्ष हो गया जो छोड़ कर अमिट निशान व्योम में सिधारता। विचार के धनी मनुष्य को जहाँ दुलारता।।

ये शहर है, यहाँ हर शख्स परेशान होता है – The reality of metro cities

इन ऊँची इमारतों में घर नहीं, मकान होता है, ये शहर है, यहाँ हर शख्स परेशान होता है। दुकानें सजीं है हर तरफ, पर क्या खरीदूँ मैं, यहाँ हर शख्स ख़ुशी तलाशता, फिर नाकाम होता है।