तुम्हे भूलकर गुनगुनाना पड़ेगा-ग़जल

कहीं लोग समझे न मैं गुमशुदा हूँ दिया अपने घर मे जलाना पड़ेगा कहीं मेरे अरमां बगावत न कर दें इन्हें दिल में जबरन दबाना पड़ेगा

किरदार छोटा है – Selfishness affects the personality

बहुत ऊँची ईमारत है तेरी, किरदार छोटा है, तुम्हें लोगों से क्या मतलब, तेरा व्यवहार छोटा है, जुटा ली है करोङो की अगर दौलत चुरा करके, तुम्हारी सोच छोटी है, दिल-ए-बाजार छोटा है।

‘शायर – Who Is The Poet’

The Poet

कलम उसके हाथ में कि जैसे तलवार हो, धँस जाती है कागज में और निकलती है तभी, पन्नों को खून में रँगने के बाद, और लोग शाबाशी देते हैं, उसकी आहों पर, वेदना पर, तड़प पर,

‘इतना भी तुम नीचे न गिरो -The Right Way Of Living’

The Right Way of Living

तुम जान गए ये सत्य सखे, जीवन की राह अधूरी है, पर तुममे जो छमता विशिष्ट, दिखलाना बहुत जरुरी है, फिर आँख मुंदने से पहले, जो कुछ होना है हो जाये, इतना भी तुम निचे न गिरो, उठाना ही दूभर हो जाये।

‘आधारित मुझ पर रहो नहीं -Being Independent Is A Must’

Being Independent Is Must

मै ठहरा नादान पथिक आगे खाई पीछे दलदल, उड़ने की छमता विकसित करने को मै कबसे तत्पर, उस पार तुझे भेजा हमने अपने आशा की कश्ती पर, मौका है ,सूरज चाँद बनो, चमका दो फिर से आज मही, मुझपर आधारित रहो नहीं।

‘क्षमता विकसित करनी होगी-Being Capable Is A Must’

Being Capable Is A Must

कदम बढाकर चलने की क्षमता विकसित करनी होगी तुम दीपक हो जलने की क्षमता विकसित करनी होगी। चाहें जितना सम्मान मिले चाहें हो पीना पड़ा जहर मन को विचलित मत होने दो रखो मुख पर मुस्कान सरल मानव तुम हो मानवता की आधारशिला रखनी होगी तुम दीपक हो जलने की क्षमता विकसित करनी होगी।

‘तुम कहाँ कुछ सोचते हो-Try To Be Faithful’

Try To Be Faithful

तुम कहाँ कुछ सोचते हो ! दीन-दुनिया की कही कोई खबर तुमको नहीं थी छोड़ करके चल दिए जो बांह संकट में गही थी ठोकरें खाकर समय की आज माथा ठोकते हो ! तुम कहाँ कुछ सोचते हो ! बात अधिकारों की तुमने खूब सोची खूब जाना अपने हित की बात करना शोर करना गुल मचाना आज इस … Continue reading ‘तुम कहाँ कुछ सोचते हो-Try To Be Faithful’

‘नादान बने फिरते है लोग – There Is No Face Behind Mask’

There Is No Face Behind Mask

नादान बने फिरते है लोग। चलना-फिरना, पीना-खाना, सोकर जगना फिर सो जाना, यह तो लक्षन चौपायों के, इंसान बने फिरते है लोग, नादान बने फिरते है लोग। धोखा देना उसने जाना, जीवन का मूल्य न पहचाना, ऊँची कीमत पर बिकने का, सामान बने फिरते हैं लोग, नादान बने फिरते हैं लोग। जब दुःख में हो … Continue reading ‘नादान बने फिरते है लोग – There Is No Face Behind Mask’