‘उपकार किया है – Why I Love You’

इस दुनिया की रंगीनी में कुछ श्वेत-श्याम से सपने थे, कुछ रिश्ते थे, कुछ नाते थे, कुछ लोग यहाँ पर अपने थे, जब मैं संकट में घिरा तभी ये भ्रम भी यूँ ही टूट गया, मेरे ढहते इस पर्णकुटी का फिर से जीर्णोद्धार किया है, तुमने मुझको अपनाकर जो प्यार दिया उपकार किया है।